Home Positive News Positive News : एक ही परिवार के दस सदस्य हैं कोरोना वॉरियर,...

Positive News : एक ही परिवार के दस सदस्य हैं कोरोना वॉरियर, अलग-अलग जगहों पर दे रहे सेवाएँ

एक ओर जहां कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के दौर में पूरा देश इससे जूझ रहा है। पुलिस विभाग, चिकित्सा विभाग, सफाई कर्मी एवं शिक्षा विभाग के कोरोना योद्धा इससे निपटने के लिए दिन-रात कड़ी मेहनत कर रहे है। कई योद्धा इस जंग में जान गँवा चुके हैं।

लेकिन राजस्थान में एक परिवार ऐसा भी है जिसके 10 सदस्य कोरोना वायरस से जंग लड़ रहे हैं। वर्तमान में राजस्थान के चित्तोड़गढ़ क्षेत्र के मावली पुलिस थाना में कांस्टेबल के पद पर कार्यरत मुकेश डाबला ने पत्रिका को बताया कि कोरोना से देश की सुरक्षा हेतु उनका परिवार ढ़ाल बनकर खड़ा है।

मूलतः इनका परिवार जयपुर जिले के दूदू थाना के मुंगीथला गांव में निवास करता है। इस परिवार के 10 भाई वर्तमान में देश के अलग-अलग हिस्सों में कोरोना योद्धा के रूप में कार्य करते हुए देश को बचाने हेतु जुटे हुए हैं।

मुकेश बताते हैं कि वे एवं उनका भाई हरिनारायण कांस्टेबल के रूप में मावली में कार्यरत हैं। वहीं उनके 8 अन्य भाई राज्य एवं देश के चहुंओर मुस्तैदी से कोरोना के खिलाफ में जंग में अपना योगदान दे रहे हैं। जिसमें कोई पुलिस विभाग तो कोई शिक्षा विभाग तो कोई भाई सेना में भी अपनी सेवा दे रहे हैं।

शिक्षा विभाग में वर्तमान में मुकेश का भाई रामजीलाल डाबला जयपुर जिले के राजकीय माध्यमिक विद्यालय पानवा कलां में, रामावतार डाबला जयपुर जिले के ही राजकीय माध्यमिक विद्यालय डोगरा में शिक्षक के पद पर कार्यरत हैं।

पुलिस एवं सेना में भी है अन्य भाई

मुकेश डाबला बताते हैं कि इनके भाई हनुमान डाबला टोंक जिले में बनेठा पुलिस थाना में थाना प्रभारी पद पर कार्यरत हैं। भाई हरिसिंह डाबला सीआरपीएफ नई दिल्ली में नियुक्त हैं। रामप्रसाद डाबला एसएसबी असम में लक्ष्मण डाबला आईटीबीपी अरूणाचल प्रदेश में, बनवारी लाल डाबला अजमेर जिले में राजस्थान पुलिस के पुलिस थाना गांधीनगर में कांस्टेबल के पद पर, अम्बालाल डाबला केन्द्रीय कारागार जोधपुर में कांस्टेबल के पद पर कार्यरत हैं।

जहां सभी भाई कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के दौर में कोरोना योद्धा के रूप में जुटे हुए हैं।

(राजस्थान पत्रिका से साभार)

Avatar
News Deskhttps://www.bepositiveindia.in
युवाओं का समूह जो समाज में सकारात्मक खबरों को मंच प्रदान कर रहे हैं. भारत के गांव, क़स्बे एवं छोटे शहरों से लेकर मेट्रो सिटीज से बदलाव की कहानियां लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

किसान के बेटे अमित ने किया राजस्थान बोर्ड में टॉप, एम्स में बनना चाहता है न्यूरोलॉजिस्ट !

मेहनत करने वालों की हार नही होती है यह पंक्तियां राजस्थान बोर्ड के बारहवीं विज्ञान वर्ग में टॉप करने...

10 रुपए में पर्ची, 20 में भर्ती, 3 दिन नि:शुल्क भोजन देने वाला जन सेवा अस्पताल बना नज़ीर

लॉक डाउन के दौरान सेवा कार्यों को अनूठे अंदाज़ में अंजाम देकर जीता सबका दिल बीते दिनों...

पढाई छोड़कर बने गांव के प्रधान, सामूहिक भागीदारी से बदल रहे है गांव की तस्वीर !

माना कि अंधेरा घना है, मगर दिया जलाना कहां मना है । यह पंक्तियाँ उत्तरप्रदेश के एक प्रधान पर...

बच्चों को भीख मांगता देख शुरू की ‘पहल’, शिक्षा के जरिये स्लम्स के बच्चों का जीवन बदल रहे है युवा

शिकायत का हिस्सा तो हम हर बार बनते है, चलिए एक बार निवारण का हिस्सा बनते है. यह पंक्तियां...

आयुर्वेदनामा : शेर के खुले मुंह जैसे सफेद फूलों वाला अड़ूसा : एक कारगर औषधि

आयुर्वेदनामा की इस कड़ी में हम बात करेंगे अड़ूसा के बारे में जो कि एक महत्वपूर्ण औषधि है। सम्पूर्ण भारत में इसके...