Home Positive News पहल : सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए ट्रैफिक पुलिस का...

पहल : सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए ट्रैफिक पुलिस का ठेठ देसी अंदाज़ !

देश में हर वर्ष सड़क दुर्घटनाओं के चार लाख से ज्यादा मामले सामने आते है जिनमें लगभग एक लाख से ज्यादा लोग अपनी जान गँवा देते है. सड़क दुर्घटनाओं के लिए राष्ट्रीय स्तर पर कई सरकारी और गैर सरकारी संगठन काम कर रहे है लेकिन छत्तीसगढ़ के रायपुर शहर के ट्रैफिक पुलिस विभाग ने एक अभिनव पहल की.

रायपुर ट्रैफिक पुलिस विभाग पिछले कई वर्षों से सड़क सुरक्षा में अभिनव प्रयोग कर रहा है. हर व्यक्ति को हेलमेट पहनना अनिवार्य किया और इसके बाद आर्टिफिशल इंटेलिजेंस के जरिये देश का पहला स्मार्ट स्टॉपिंग सिस्टम बनाया. इसके साथ ही प्रिंट एवं टीवी मीडिया के साथ ही सोशल मीडिया का प्रयोग किया. इसके अलावा शहर के व्यस्ततम चौराहों पर नुक्कड़ नाटकों के साथ ही रेडियो के जरिये लगातार जागरूकता कार्यक्रम चलाया जा रहा हैं.

इसी कड़ी में रायपुर पुलिस ने ‘ट्रैफिक सियान‘ नाम से अभियान चलाया हैं. छत्तीसगढ़ की स्थानीय भाषा में सियान का मतलब होता है बुज़ुर्ग या समझदार व्यक्ति. इस तरह ट्रैफिक सियान का मतलब हुआ- ट्रैफिक की जानकारी देने वाला बुजुर्ग या समझदार व्यक्ति.

ट्रैफिक पुलिस कर्मी ठेठ देशी छत्तीसगढ़िया अंदाज़ में धोती-गमछा डाले दिख रहे हैं

रायपुर के चौराहों पर इन दिनों ट्रैफिक पुलिस कर्मी ठेठ देशी छत्तीसगढ़िया अंदाज़ में धोती-गमछा डाले दिख रहे हैं. ये ट्रैफिक रूल तोड़ने वालों को रोककर हंसी-ठिठोली में उन्हें नियम बता रहे हैं. उन्हें हेलमेट पहनने, रेड लाइट पर रुकने, स्टॉप लाइन के पीछे गाडी खड़े करने, गलत साइड में गाड़ी न चलाने जैसी छोटी-छोटी बातों पर समझाइश दे रहे हैं.

छत्तीसगढ़ के रायपुर शहर के ट्रैफिक पुलिस विभाग में SSP आरिफ शेख ने इस अभियान के बारे में बताया कि परिवार में सियान की बात मानी जाती है, इस लिहाज से हमने यह नाम दिया है. जब हमने देखा कि चालानी कार्रवाई के बेहतर परिणाम नहीं दिख रहे हैं, तो हमने इस मुहीम की शुरुआत की. इसकी वजह से शहर में हेलमेट का उपयोग करने वाले लोगों में अच्छी खासी वृद्धि हुई है और चालान में कमी आई है.

इसके अलावा भी रायपुर पुलिस विभाग ने ‘हर हेड हेलमेट’ अभियान के तहत केवल सात घंटे में 15 हज़ार से ज्यादा लोगों को मुफ्त में हेलमेट बांटा. इसके साथ ही देश का पहला ‘स्मार्ट स्टॉपिंग सिस्टम‘ भी लागू किया गया. इसमें ट्रैफिक सिग्नल लाल होने पर अगर कोई गाड़ी स्टॉप लाइन के आगे खड़ी होती है तो अलार्म बजना शुरू हो जाता है. यह सिस्टम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर काम करता है.

बी पॉजिटिव इंडिया, रायपुर ट्रैफिक पुलिस विभाग की अभिनव पहल का स्वागत करता हैं और उम्मीद करता हैं कि इससे देश में सड़क दुर्घटनाओं में कमी आएगी और लोग जागरूकता अभियान लाएंगे.

Avatar
News Deskhttps://www.bepositiveindia.in
युवाओं का समूह जो समाज में सकारात्मक खबरों को मंच प्रदान कर रहे हैं. भारत के गांव, क़स्बे एवं छोटे शहरों से लेकर मेट्रो सिटीज से बदलाव की कहानियां लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

आयुर्वेदनामा: अत्यंत गर्म और तीखे स्वभाव की वनस्पति ‛चित्रक’

आज आयुर्वेदनामा में हम चित्रक के बारे में जानकारी हासिल करेंगे जो मुख्य रूप से पहाड़ी स्थानों व जगलों में पाया जाने...

कैरियर लैब: जनसहयोग से ले रही है आकार, ग्रामीण परिवेश के बच्चें भरेंगे उड़ान !

आपने लैब के बारे में तो अवश्य ही सुना होगा। अस्पतालों में भी जांच करने के लिए लैब या लैबोरेटरी होती हैं।...

ऋचा और फ़ाएज़: कॉफ़ी ही नहीं पिलाते, युवाओं को मंच भी प्रदान करते हैं

यह कहानी है जोधपुर में रहने वाली महिला उद्यमी ऋचा शर्मा की, जिन्हें बचपन से किताबों से लगाव था। बातचीत के दौरान...

प्रधानाध्यापिका की पहल ने बदली स्कूल की तस्वीर, गांव के सहयोग से करवा डाले 10 लाख के विकास कार्य

जहाँ चाह है, वहां राह है . . . यह पंक्तियाँ एक सरकारी स्कूल की प्रधानाध्यापिका पर सटीक बैठती...

आयुर्वेदनामा: कड़वाहट का राजा यानी ‛कालमेघ’

आज आयुर्वेदनामा में हम कालमेघ के बारे में जानकारी हासिल करेंगे जो एक बहुवर्षीय शाक जातीय औषधीय पौधा है।