Home Inspiration ‘रईस’ नही, परिवार को ‘क़ाबिल’ बनाया चौधरी बसंत सिंह ने, IAS और...

‘रईस’ नही, परिवार को ‘क़ाबिल’ बनाया चौधरी बसंत सिंह ने, IAS और IPS समेत 11 सदस्य हैं अफसर

अगर परिवार का मुखिया ठान ले तो परिवार की दशा एवं दिशा बदल सकता हैं. खेतीबाड़ी से परिवार चलाने वाले इस शख़्स ने चौथी कक्षा तक पढ़ाई की लेकिन उसके महत्व को बहुत जल्दी समझ गया. उसने अपना पुरा ध्यान एवं संसाधन बच्चों की पढ़ाई-लिखाई मे लगा दिए. उसका परिणाम भी मिला और इस परिवार से 2 IAS और IPS समेत 11 ग्रेड वन के सरकारी अफ़सर बन चुके हैं. अफ़सरों की खान बन चूके इस परिवार के मुखिया है चौधरी बसंत सिंह.

चौधरी बसंत सिंह श्योंकद हरियाणा के किसान परिवार से आते हैं. वो जींद जिले के गांव डूमरखां कलां के रहने वाले है. कम पढ़े-लिखे होने के बावजूद बसंत सिंह की दोस्ती हमेशा बड़े लोगों और असफरों से रही. उनके पद और प्रतिष्ठा ने उन्हें प्रभावित किया और अपने बच्चों को अफ़सर बनाने की ठानी.

पढ़ाई का मोल अच्छे से समझा और अपने बच्चों को पढ़ने-लिखने व आगे बढ़ने का भरपूर अवसर दिया. नतीजा यह रहा कि परिवार सरकारी नौकरियों की खान बन गया.

बसंत सिंह श्योंकद के परिवार में कामयाबी की शुरुआत बेटा-बेटियों से हुई. उसी विरासत को अगली पीढ़ी भी आगे बढ़ा रही है. इनके चारों बेटे क्लास वन के अफसर बने. एक पुत्रवधू और पोते ने आईएएस बनने में सफलता हासिल की. वहीं, पोती ने आईपीएस बनकर दिखाया जबकि एक दोहती आईआरएस अफ़सर है. आपको बता दे कि इनकी तीनों बेटियों ने उस जमाने में ग्रेजुएशन की थी.

बसंत सिंह के बड़े बेटे रामकुमार श्योकंद कॉलेज प्रोफेसर रह चुके हैं. वर्तमान में रिटायर्ड हैं. इनकी पत्नी जयवंती श्योकंद आईएएस रही हैं. रामकुमार का बेटा यशेंद्र आईएएस है, जो अभी डीसी रेवाड़ी हैं. बेटी स्मिति चौधरी आईपीएस हैं. अंबाला में बतौर रेलवे एसपी तैनात हैं. स्मिति के पति राजेश कुमार बीएसएफ में आईजी हैं.

बसंत सिंह के दूसरे बेटे सज्जन कुमार कॉन्फेड में जीएम थे. इनकी पत्नी कृष्णा डिप्टी डीइओ रह चुकी हैं. तीसरे बेटे वीरेंद्र एसई थे. इनकी पत्नी इंडियन एयरलाइंस में डिप्टी मैनेजर रही हैं.

बसंत सिंह के चौथे बेटे का नाम गजेंद्र सिंह हैं. ये भारतीय सेना में कर्नल पद रिटायर हुए हैं. वर्तमान में बतौर निजी पायलट सेवाएं दे रहे हैं.

बसंत सिंह की बड़ी बेटी बिमला के पति इंद्र सिंह एडवोकेट हैं. इनके बेटे अनिल ढुल बीबीएमबी में एसई विजिलेंस हैं. दूसरी बेटी कृष्णा प्रिंसिपल पद से रिटायर हो चुकी हैं. कृष्णा की शादी रघुबीर पंघाल से हुई, जो आर्मी में मेजर रहे और सेना से रिटायर होने के बाद एचएयू में विभागाध्यक्ष रहे. कृष्णा की बेटी दया पंघाल ईटीओ है और बेटा विक्रम डॉक्टर है.

चौधरी बसंत सिंह ने जो पौधा सींचा वो अब वट वृक्ष का रूप ले चुका हैं. चौधरी बसंत सिंह को सलाम !

तीसरी बेटी कौशल्या ने पोस्ट ग्रेजुएशन की थी. इनके पति रणधीर सिंह एसई पब्लिक हेल्थ रहे हैं. इनकी बेटी रितु चौधरी आईआरएस हैं और पति अनुराग शर्मा भी आईआरएस हैं.

( मीडिया रिपोर्ट्स पर आधारित )

Avatar
News Deskhttps://www.bepositiveindia.in
युवाओं का समूह जो समाज में सकारात्मक खबरों को मंच प्रदान कर रहे हैं. भारत के गांव, क़स्बे एवं छोटे शहरों से लेकर मेट्रो सिटीज से बदलाव की कहानियां लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

किसान के बेटे अमित ने किया राजस्थान बोर्ड में टॉप, एम्स में बनना चाहता है न्यूरोलॉजिस्ट !

मेहनत करने वालों की हार नही होती है यह पंक्तियां राजस्थान बोर्ड के बारहवीं विज्ञान वर्ग में टॉप करने...

10 रुपए में पर्ची, 20 में भर्ती, 3 दिन नि:शुल्क भोजन देने वाला जन सेवा अस्पताल बना नज़ीर

लॉक डाउन के दौरान सेवा कार्यों को अनूठे अंदाज़ में अंजाम देकर जीता सबका दिल बीते दिनों...

पढाई छोड़कर बने गांव के प्रधान, सामूहिक भागीदारी से बदल रहे है गांव की तस्वीर !

माना कि अंधेरा घना है, मगर दिया जलाना कहां मना है । यह पंक्तियाँ उत्तरप्रदेश के एक प्रधान पर...

बच्चों को भीख मांगता देख शुरू की ‘पहल’, शिक्षा के जरिये स्लम्स के बच्चों का जीवन बदल रहे है युवा

शिकायत का हिस्सा तो हम हर बार बनते है, चलिए एक बार निवारण का हिस्सा बनते है. यह पंक्तियां...

आयुर्वेदनामा : शेर के खुले मुंह जैसे सफेद फूलों वाला अड़ूसा : एक कारगर औषधि

आयुर्वेदनामा की इस कड़ी में हम बात करेंगे अड़ूसा के बारे में जो कि एक महत्वपूर्ण औषधि है। सम्पूर्ण भारत में इसके...