Home Inspiration वायरल : टूटे फोन को नहीं छोड़ रहा मशहूर फुटबाॅलर, पूछा तो...

वायरल : टूटे फोन को नहीं छोड़ रहा मशहूर फुटबाॅलर, पूछा तो दिया दिल जीत लेने वाला बयान

किसी ने सच ही कहा है, इंसान भले ही किसी दिन ढेरों दाैलत और शाैहरत हासिल कर ले लेकिन उसे अपना गुजरा हुआ वक्त कभी नहीं भूलना चाहिए।

अगर भूला तो उसे अहंकारी कहना भी गलत नहीं होता। इस समय सोशल मीडिया पर एक नामी फुटबाॅलर की कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं। वो भी एक टूटे हुए फोन के साथ। खिलाड़ी टूटे फोन को छोड़ने के लिए तैयार नहीं। जब उनसे इसकी वजह पूछी गई तो जवाब दिल जीत लेने वाला था।

दरअसल, इंग्लैंड के फुटबाॅल क्लब लीवरपूल के स्टार विंगर सादियो माने की कुछ तस्वीरें टूटे फोन के साथ वायरल हो रही हैं। लोगों ने सवाल किए कि वे करोड़ों के मालिक हैं। वो ऐसे कई फोन खरीद सकते हैं तो फिर टूटे फोन का इस्तेमाल क्यों?

सादियो माने ने अफ्रीकी फुटबॉल (सीएएफ) प्लेयर ऑफ द ईयर पुरस्कार भी पिछले साल हासिल किया था। सादियो अपने क्लब से ही 48 करोड़ से ज्यादा सालाना सैलरी हासिल करते हैं, लेकिन बावजूद इसके उन्होंने नया फोन ना लेने की बजाय टूटे फोन को ठीक करवाने का फैसला लिया।

सादियो ने इसपर कहा, ”मैं ऐसे कई फोन ले लूंगा लेकिन मुझे 10 फरारी, 2 जेट प्लेन और 20 डायमंड घड़ियों की क्या जरूरत है। आखिर मुझे इन सब चीचों की जरूरत क्या? गरीबी का दाैर मैने देखा है। इसके कारण मैं पढ़ाई भी नहीं कर सका था। यही कारण है कि मैंने अपने देश में स्कूल बनवाए ताकि बच्चे पढ़ सकें, फुटबॉल स्टेडियम बनवाए हैं।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 27 साल के सादियो ने 2012 में अपने करियर की शुरुआत के बाद सेनेगल के लिए 69 मैचों में 19 गोल दर्ज किए हैं। सादियो ने बुरे दाैर को याद करते हुए आगे कहा, ”एक समय था जब मेरे पास खेलने के लिए जूते नही थे, अच्छे कपड़े नही थे। आज मेरे पास सबकुछ है तो क्या मैं उसका दिखावा करूं? मैं उसे अपने लोगों के साथ बांटना चाहता हूं।

Avatar
News Deskhttps://www.bepositiveindia.in
युवाओं का समूह जो समाज में सकारात्मक खबरों को मंच प्रदान कर रहे हैं. भारत के गांव, क़स्बे एवं छोटे शहरों से लेकर मेट्रो सिटीज से बदलाव की कहानियां लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

डॉ पाराशर: जिनके हाथों में जादू है, 2-3 दिन में गायब हो जाता है बरसों पुराना दर्द !

हमारे देश भारत में आचार्य चरक, महर्षि सुश्रुत, नागार्जुन, पाणिनी और महर्षि अगस्त्य जैसे विद्वान हुए हैं जिन्होंने आयुर्वेद और चिकित्सा...

आयुर्वेदनामा: अपनी सुगंध से आपको खींचता है ‛लेमन बेसिल’

आयुर्वेदनामा में आज हम लेमन बेसिल के बारे में जानेंगे। लेमन बेसिल को सुगंधित नींबू बेसिल भी कहा जाता है। नींबू तुलसी...

आयुर्वेदनामा: अत्यंत गर्म और तीखे स्वभाव की वनस्पति ‛चित्रक’

आज आयुर्वेदनामा में हम चित्रक के बारे में जानकारी हासिल करेंगे जो मुख्य रूप से पहाड़ी स्थानों व जगलों में पाया जाने...

कैरियर लैब: जनसहयोग से ले रही है आकार, ग्रामीण परिवेश के बच्चें भरेंगे उड़ान !

आपने लैब के बारे में तो अवश्य ही सुना होगा। अस्पतालों में भी जांच करने के लिए लैब या लैबोरेटरी होती हैं।...

ऋचा और फ़ाएज़: कॉफ़ी ही नहीं पिलाते, युवाओं को मंच भी प्रदान करते हैं

यह कहानी है जोधपुर में रहने वाली महिला उद्यमी ऋचा शर्मा की, जिन्हें बचपन से किताबों से लगाव था। बातचीत के दौरान...