Home खेतीबाड़ी किसान चाची : बिहार के खेतों से पद्मश्री तक का सफ़र, सामाजिक...

किसान चाची : बिहार के खेतों से पद्मश्री तक का सफ़र, सामाजिक बंदिशों को तोड़ लिखी सफलता की कहानी

Kisan Chachi Padma Shri Rajkumari Devi Bihar : महिलाओं को घर की दहलीज तक ही सीमित रखा जाता हैं लेकिन हालातों के मारे जब कोई महिला घर से बाहर निकलती है तो इतिहास बन जाते हैं। बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर के सरैया प्रखंड के आनंदपुर गांव की राजकुमारी देवी (Rajkumari Devi) ने जब खेती-बाड़ी शुरू की तो कोई ख़ास अनुभव नहीं था। अनुभव से सींखती रही और खेती-बाड़ी में रम गयी।

आमदनी कम हो रही तो कृषि से संबधित घरेलू उद्योग जैसे अचार, पापड़ एवं मसाले बनाने शुरू किए। प्रोडक्ट तो बन गए लेकिन उन्हें बेचने में तकलीफ़ों का सामना करना पड़ा तो एक बार फिर वो घर से बाहर निकली लेकिन इस बार साइकिल लेकर। साइकिल चलाना न परिवार को मंज़ूर था और न ही समाज को लेकिन वो थी अपने धुन की पक्की।

kisan chachi at stall
किसान मेले में सामान बेचती किसान चाची । तस्वीर साभार : इंटरनेट

गाँव-गली में घर-घर घुमकर उन्होंने अपने अचार एवम् मसाले बेचना शुरू किया। देखते ही देखते उनका कारोबार चल निकला और वो क्षेत्र में ‘साइकिल चाची (Cycle Chachi)‘ के नाम से प्रसिद्ध हो गयी।

कारोबार बढ़ा तों गाँव की महिलाओं को साथ में जोड़ना शुरू किया और कूछ ही समय में उनके साथ 300 से ज़्यादा महिलाएँ जुड़ गयी। उत्पादन बढ़ा तों कारोबार का दायरा भी बढ़ना शुरू हुआ और बिहार से निकलकर देश के कई कृषि मेलों में उनके उत्पाद बिकने लगे। गुणवत्ता और स्वाद ने उनके उत्पादों को मशहूर कर दिया और राजकुमारी देवी ‘किसान चाची’ के रूप में प्रसिद्ध हो गयी।

उनके उत्पादों की गुंज सदी के महानायक अमिताभ बच्चन तक पहुँची और उन्होंने राजकुमारी देवी को पाँच लाख नक़द आटा चक्की और ज़रूरत के सामान दिए जिससे उनके व्यापार को बढ़ाने में मदद मिली।

kisan chachi with Nitish kumar
बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार से अवार्ड लेती किसान चाची । तस्वीर साभार : इंटरनेट

कुछ बेहतर करने के लिए खाद्य प्रसंस्करण का प्रशिक्षण लिया। पूसा कृषि विश्वविद्यालय से जुड़कर आधुनिक तरीके से खेती के गुर सीखे। अचार व मुरब्बे के काम को बढ़ाया। आसपास की महिलाएं व युवतियों को प्रशिक्षण दिलाकर इस काम में लगाया।

महज डेढ़ सौ रुपये से शुरू किया गया उनका कारोबार बढ़ता गया। बिहार सरकार ने वर्ष 2007 में ‘किसानश्री‘ से सम्मानित किया। उस वर्ष यह सम्मान पानी वालीं एकमात्र महिला थीं।

अचार व मुरब्बे की खुशबू की तरह किसान चाची का नाम भी फैलने लगा। अहमदाबाद में उनकी इस लगन की तारीफ नरेंद्र मोदी ने भी की। तब वे गुजरात के मुख्यमंत्री थे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद इनकी खेती व छोटे से कारोबार को देखने इनके घर आए। 

Kisan chachi with Modi
प्रधानमंत्री मोदी के साथ किसान चाची । तस्वीर साभार : इंटरनेट

इसके बाद राजकुमारी देवी के जीवन में वो पल आया जो शायद ही देश की किसी महिला किसान को नसीब हो पाया। बदलाव के दौर को देखते हुए नरेंद्र मोदी सरकार ने पद्म पुरुस्कारों की प्रक्रिया बदली तो किसान चाची को भी पद्मश्री सम्मान से नवाज़ा गया।

राजकुमारी देवी का संघर्ष और जीवटता ही उनकी पहचान बन गयी। नारीशक्ति का एक नया रूप बनते हुए वो समाज के लिए आदर्श बन गई हैं। घर से बाहर कदम रखने पर जिसने ठुकराया था, वही समाज व परिवार आज उनके कारण अपने को गौरवान्वित महसूस करता है। Kisan Chachi Padma Shri Rajkumari Devi Bihar

Avatar
News Deskhttps://www.bepositiveindia.in
युवाओं का समूह जो समाज में सकारात्मक खबरों को मंच प्रदान कर रहे हैं. भारत के गांव, क़स्बे एवं छोटे शहरों से लेकर मेट्रो सिटीज से बदलाव की कहानियां लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

किसान के बेटे अमित ने किया राजस्थान बोर्ड में टॉप, एम्स में बनना चाहता है न्यूरोलॉजिस्ट !

मेहनत करने वालों की हार नही होती है यह पंक्तियां राजस्थान बोर्ड के बारहवीं विज्ञान वर्ग में टॉप करने...

10 रुपए में पर्ची, 20 में भर्ती, 3 दिन नि:शुल्क भोजन देने वाला जन सेवा अस्पताल बना नज़ीर

लॉक डाउन के दौरान सेवा कार्यों को अनूठे अंदाज़ में अंजाम देकर जीता सबका दिल बीते दिनों...

पढाई छोड़कर बने गांव के प्रधान, सामूहिक भागीदारी से बदल रहे है गांव की तस्वीर !

माना कि अंधेरा घना है, मगर दिया जलाना कहां मना है । यह पंक्तियाँ उत्तरप्रदेश के एक प्रधान पर...

बच्चों को भीख मांगता देख शुरू की ‘पहल’, शिक्षा के जरिये स्लम्स के बच्चों का जीवन बदल रहे है युवा

शिकायत का हिस्सा तो हम हर बार बनते है, चलिए एक बार निवारण का हिस्सा बनते है. यह पंक्तियां...

आयुर्वेदनामा : शेर के खुले मुंह जैसे सफेद फूलों वाला अड़ूसा : एक कारगर औषधि

आयुर्वेदनामा की इस कड़ी में हम बात करेंगे अड़ूसा के बारे में जो कि एक महत्वपूर्ण औषधि है। सम्पूर्ण भारत में इसके...