Home पर्यावरण राहुल भाटी: ‘वनमैन आर्मी’ कहे जाने वाले इस शिक्षक ने लगाए हज़ारों...

राहुल भाटी: ‘वनमैन आर्मी’ कहे जाने वाले इस शिक्षक ने लगाए हज़ारों पौधे, 10,000 से ज़्यादा बांटे

राजस्थान के सूरतगढ़ में रहने वाले राहुल भाटी जो कि पेशे से शिक्षक हैं, ने आज से 6 साल पहले अपनी बेटी के जन्मदिन के अवसर पर पौधारोपण की शुरुआत की थी। उनका लक्ष्य 500 पौधे लगाने का था, परंतु इस लक्ष्य ने उनकी जिंदगी बदलकर रख दी। राहुल, जो कि इतिहास विषय के व्याख्याता थे, नेअपनी नौकरी छोड़कर पर्यावरण और जीव सेवा के लिए अपना जीवन दांव पर लगा दिया।

उनके ही शब्दों में,“21,000 से भी ज्यादा पौधे सूरतगढ़ की गांव ढाणियों में लगा दिए हैं। विशेषकर नीम पीपल, बड़, कचनार, लेसुआ, खेजड़ी, अमलतास, हरसिंगार, बकैन, जामुन, पिलखन, करंज, आंवला आदि। लगाए गए पौधों में छायादार एवं फलदार पौधे हैं। 10,000 से भी ज्यादा पौधे तो वितरित किए हैं।

आम जनता के साथ ही प्रशासन को भी अपनी मुहिम से जोड़ रहे है राहुल

हर रोज गांव ढाणी, स्कूल, कॉलेज, इंस्टीट्यूट में घूम घूमकर विद्यार्थियों और युवाओं को पौधारोपण के प्रेरित करने वाले भाटी का कहना है पेड़-पौधे लगाना किसी एक व्यक्ति, संस्था या सरकार का काम नहीं बल्कि यह हम सब का नैतिक दायित्व है। वे अपने प्रयासों के चलते अब तक हजारों विद्यार्थियों को इस पौधारोपण अभियान से जोड़ चुके हैं।

भाटी ने अपने क्षेत्र के समस्त राजकीय एवं निजी विद्यालयों, महाविद्यालयों, कोचिंग संस्थाओं में पर्यावरण संरक्षण जैसे विषय पर सेमिनार आयोजित करवाए हैं। उनका मानना है कि पर्यावरण प्रदूषण से लड़ना है तो मिलकर सामूहिक प्रयास करने होंगे और सामूहिक प्रयासों के लिए युवा वर्ग को प्रकृति से जोड़ना अतिआवश्यक है।

एक सेमिनार के दौरान राहुल भाटी

प्रदूषण से बचाव के लिए उन्होंने बौद्धिक क्रांति की आवश्यकता को अनिवार्य बताया है। बौद्धिक क्रांति का तात्पर्य पौधारोपण के लिए अवसर तलाशने से है। हर शुभ अवसर जैसे जन्मदिन, वैवाहिक वर्षगांठ, पूर्वजों बरसी, पुण्यतिथि पर अनिवार्य रूप से पौधारोपण करने के महत्व को प्रतिपादित करने में वे जुटे हुए हैं।

पीपल नीम तुलसी संस्थान द्वारा 2019 में ‛पर्यावरण योद्धा सम्मान’ सहित 26 जनवरी, 2020 को उपखंड स्तर पर सम्मानित राहुल ने गत वर्ष दैनिक भास्कर के पौधारोपण अभियान में सूरतगढ़ में हजारों पौधे लगवाए। गत वर्ष ही राजस्थान के शिक्षा विभाग द्वारा वृक्ष मित्र अभियान के तहत भी गांव के विद्यालयों में घूम-घूमकर विद्यार्थियों को वृक्ष मित्र अभियान से जोड़ने का कार्य करते हुए वृहद स्तर पर पौधारोपण करवाया।

हाल ही में सूरतगढ़ पंचायत समिति और राष्ट्रीय बीज निगम द्वारा उपलब्ध करवाए हजारों पौधों को उन्होंने गांवों में वितरित किया करवाने का कार्य किया।

पौधारोपण के दौरान राहुल

वे मुख्य रूप से सार्वजनिक स्थानों पर विद्यार्थियों को प्रेरित कर सामूहिक रूप से पौधारोपण करवाते हैं। अब तक सूरतगढ़ के ढेरों सार्वजनिक स्थलों का कायाकल्प करने के लिए कार्य कट चुके हैं।

वे पर्यावरण संरक्षण संबंधी जागरूकता के लिए शादी विवाह में बान के स्थान पर पौधा भेंट करते हैं। सोशल साइट्स पर जुड़े लोगों के जन्मदिन के अवसर पर भी पौधा ही भेंट करते हैं। इतना ही नहीं, उनके हाथों से भेंट किया गया पौधा लगवाते भी हैं।

श्मशान घाट, कब्रिस्तान, नगरपालिका पार्क, सार्वजनिक स्थल, रेलवे स्टेशन, राजकीय विद्यालय जैसी जगहें इनकी पसंदीदा हैं, जहां वे पौधारोपण करना पसंद करते हैं।

राहुल पौधारोपण कार्य को अंजाम देने के लिए कोचिंग संस्थाओं से जुड़े हैं, जहां वे 3 घंटे अध्यापन करवा अपनी आधी तनख्वाह पौधारोपण में खर्च करते हैं। पौधारोपण के लिए वे आर्थिक सहयोग न लेते हुए विद्यार्थियों से गुरुदक्षिणा में एक-एक पौधा मांगते हैं। जीवन के शेष समय को उन्होंने पर्यावरण संरक्षण के लिए समर्पित कर दिया है।

पौधारोपण के अलावा इन्होंने ‛सूरतगढ़ इको क्लब’ जैसी संस्था का गठन भी किया है जिसके माध्यम से वे पक्षियों, जीवों और जरूरतमंद गरीब विद्यार्थियों के लिए कार्य करते हैं।
पक्षी एंव जीव सेवा में ‛सूरतगढ़ इको क्लब’ के सदस्य बाजरी एंव पौधे भेंट करते हैं।

क्लब के सदस्य हनुमान मील, पुरुषोत्तम शर्मा, लड्डू मुदगल, भूपेंद्र मुदगल, बाबूराम सुथार, ज्ञान प्रकाश बारूपाल, संजीव मदान, नरेन्द शर्मा, राजेश जनवेजा, सतीश मनचंदा, कमलसिंह बड़गुजर, बरकत अली, परसराम भाटिया, बैरम खान बागड़वा, संजय पठान, योगेश नागपाल, चंद्रशेखर ओझा और गुरप्रीतसिंह मान हैं जो समय-समय पर पौधों के अलावा पक्षियों के लिए दाने पानी की व्यवस्था भी करते हैं।

लॉक डाउन के दौरान भाटी के क्लब द्वारा पक्षियों के लिए रोज़ाना 50 किलो बाजरी के साथ ही 700 से भी ज्यादा पक्षियों के पानी के परिंडों की व्यवस्था की गई। सूरतगढ़ में उन्होंने ‛प्रोजेक्ट झुरमुट’ के तहत नगर पालिका के दो पार्कों में पौधारोपण किया।

एक सम्मान समारोह के दौरान अवार्ड ग्रहण करते हुए राहुल भाटी

अपनी सफलता के लिए वे सबसे बड़ा सहयोग अपने प्रिय शिष्यों सहित युवा साथियों और जुड़े हुए शिक्षकों को देते हैं, जिनके सहयोग की वजह से वे पौधारोपण में सफल हो पाए।

उनसे फेसबुक पर जुड़ने के अलावा (09549187600) पर बात की जा सकती है।

बी पॉजिटिव इंडिया’, शिक्षक राहुल भाटी द्वारा पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में दी गई सेवाओं की सराहना करते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करता है।

प्रस्तुति: मोईनुद्दीन चिश्ती (देश के वरिष्ठ लेखक- पत्रकार हैं और अपनी सकारात्मक लेखनी के लिए ख़ासे लोकप्रिय हैं)

Avatar
MOINUDDIN RBS CHISHTY
लेखक स्वतंत्र कृषि एवं पर्यावरण पत्रकार हैं। वे अपनी सकारात्मक लेखनी के लिए देशभर में लोकप्रिय हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

डॉ पाराशर: जिनके हाथों में जादू है, 2-3 दिन में गायब हो जाता है बरसों पुराना दर्द !

हमारे देश भारत में आचार्य चरक, महर्षि सुश्रुत, नागार्जुन, पाणिनी और महर्षि अगस्त्य जैसे विद्वान हुए हैं जिन्होंने आयुर्वेद और चिकित्सा...

आयुर्वेदनामा: अपनी सुगंध से आपको खींचता है ‛लेमन बेसिल’

आयुर्वेदनामा में आज हम लेमन बेसिल के बारे में जानेंगे। लेमन बेसिल को सुगंधित नींबू बेसिल भी कहा जाता है। नींबू तुलसी...

आयुर्वेदनामा: अत्यंत गर्म और तीखे स्वभाव की वनस्पति ‛चित्रक’

आज आयुर्वेदनामा में हम चित्रक के बारे में जानकारी हासिल करेंगे जो मुख्य रूप से पहाड़ी स्थानों व जगलों में पाया जाने...

कैरियर लैब: जनसहयोग से ले रही है आकार, ग्रामीण परिवेश के बच्चें भरेंगे उड़ान !

आपने लैब के बारे में तो अवश्य ही सुना होगा। अस्पतालों में भी जांच करने के लिए लैब या लैबोरेटरी होती हैं।...

ऋचा और फ़ाएज़: कॉफ़ी ही नहीं पिलाते, युवाओं को मंच भी प्रदान करते हैं

यह कहानी है जोधपुर में रहने वाली महिला उद्यमी ऋचा शर्मा की, जिन्हें बचपन से किताबों से लगाव था। बातचीत के दौरान...