Home नारी शक्ति रानू मंडल : स्टेशन पर गाना गाने वाली महिला रातो-रात बनी इंटरनेट...

रानू मंडल : स्टेशन पर गाना गाने वाली महिला रातो-रात बनी इंटरनेट स्टार, अब गाएगी रियलिटी शो में !

एक यात्रा या एक वीडियो आपकी ज़िन्दगी बदल सकता हैं. प्लेटफार्म पर गाना गाकर अपना पेट भरने वाली एक महिला का ज़िन्दगी बदल गयी. एक यात्री ने उसके गाने का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर अपलोड क्या किया, वो रातो-रात स्टार बन चुकी हैं. दो वक्त के लिए खाने के लिए मोहताज़ रहने वाली इस महिला को रियलिटी शो में गाने के लिए आमंत्रित किया गया हैं. एक गाने से रातों-रात सेलिब्रिटी बनी इस महिला का नाम हैं रानू मंडल (Ranu Mandal).

पिछले दो हफ्तों से 50 साल की रानू मंडल (Ranu Mandal) इंटरनेट पर सनसनी बनी हुई हैं. कुछ दिनों पहले रानाघाट रेलवे स्टेशन पर रानू मंडल का एक वीडियो सामने आया था जिसमें वे देश की प्रख्यात सिंगर लता मंगेशकर के एक गाने को गुनगुनाते हुए दिख रही है. उनका यह गाना इतना पॉपुलर हुआ कि वे रातों रात सेलिब्रेटी बन गई हैं. रानू को मुंबई के रिएलिटी शो में गाने का ऑफर मिला.

यह भी पढ़े : सरकारी स्कूल : सेनेटरी पैड के साथ ही मिलती हैं ब्यूटीशियन की ट्रेनिंग, मुफ्त में पढाई के साथ स्किल भी !

कैसे बनी इंटरनेट सनसनी

पिछले दिनों वह चर्चा में तब आईं, जब एक यात्री ने उनके गाने का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया था। रानू के मुताबिक, अभी तक वह स्टेशन पर पेट पालने के लिए गाया करती थीं, लेकिन अब उन्हें एक मंच मिल गया है. बीते एक हफ्ते में, कई लोगों ने अपना भोजन लाने के लिए स्वेच्छा से मदद की है और उन्हें स्थानीय ब्यूटी पार्लर में कई फोन कॉल और मेकओवर भी मिले हैं.

❤️

Posted by Sakht Launda on Thursday, August 1, 2019

बचपन से ही था गाने का शौक

रानू (Ranu Mandal) ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि ” मुझे बचपन से ही मुझे संगीत सुनने और साथ गाने का शौक था. हालाँकि मुझे मोहम्मद रफ़ी और मुकेशजी के गाने बहुत पसंद थे. यह लता मंगेशकर थीं, जिन्होंने मुझे बहुत प्रेरित किया. मैं उनके गायन से जुड़ी रहती थी और उनका गाना मेरे दिल को छूता रहता है.”

Ranu mandal Makeover
एक गाने ने रानू मंडल को रातो-रत स्टार बना दिया | तस्वीर साभार : इंटरनेट

उन्हें स्थानीय ब्यूटी पार्लर में कई फोन कॉल और मेकओवर भी मिले हैं. उन्हें स्थानीय ब्यूटी पार्लर में कई फोन कॉल और मेकओवर भी मिले हैं. रानू मारिया मोंडल की पॉपुलैरिटी ने जिला प्रशासन का भी ध्यान आकर्षित किया है. स्थानीय खंड विकास अधिकारी (BDO) ने मदद का भरोसा दिया है और यहां तक कि 14 अगस्त को पश्चिम बंगाल सरकार के कन्याश्री दिवस समारोह के मौके पर उन्हें सम्मानित करने की योजना बनाई है.

यह भी पढ़े : रेलवे स्टेशन पर भीख मांगने वाले बच्चों के हाथ में कलम पकड़ा कर बदलाव ला रहे हैं अभिषेक !

कौन हैं रानू मंडल (Ranu Mandal)

रानू मंडल का जन्म कृष्णानगर में हुआ था, लेकिन बचपन में अपनी माँ की मौत के बाद उन्होंने अपना अधिकांश बचपन रानाघाट में अपनी मौसी के यहाँ बिताया. 19 साल की उम्र में, रानू की शादी उसके पड़ोसी बबलू मंडल से हो गई थी और यह कपल रोजी रोटी की तलाश में मुंबई पहुंच गया. हालाँकि, वह डिप्रेशन के कारण लगभग एक दशक पहले राणाघाट लौट आई थी और तब से वह गरीबी में अकेली रह रही है.

Disclaimer : यह कहानी मीडिया रिपोर्ट्स पर आधारित है और बी पॉजिटिव इंडिया (Be Positive India) इस कहानी में दिए गए तथ्यों की पुष्टि नहीं करता हैं. अगर आपको इस पोस्ट में दी गयी जानकारी से आपत्ति है तो हमें media.bepositive@gmail.com पर ईमेल कीजिये.

Ajay Kumar Patel
Ajay Kumar Patel
बी पॉजिटिव इंडिया के झारखण्ड प्रभारी हैं. इसके साथ ही झारखण्ड के आदिवासी बच्चों की पढाई के लिए 'टीच फॉर विलेज (Teach For Village) ' नाम से संस्था चलाते हैं. इसके साथ ही सामाजिक मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

डॉ पाराशर: जिनके हाथों में जादू है, 2-3 दिन में गायब हो जाता है बरसों पुराना दर्द !

हमारे देश भारत में आचार्य चरक, महर्षि सुश्रुत, नागार्जुन, पाणिनी और महर्षि अगस्त्य जैसे विद्वान हुए हैं जिन्होंने आयुर्वेद और चिकित्सा...

आयुर्वेदनामा: अपनी सुगंध से आपको खींचता है ‛लेमन बेसिल’

आयुर्वेदनामा में आज हम लेमन बेसिल के बारे में जानेंगे। लेमन बेसिल को सुगंधित नींबू बेसिल भी कहा जाता है। नींबू तुलसी...

आयुर्वेदनामा: अत्यंत गर्म और तीखे स्वभाव की वनस्पति ‛चित्रक’

आज आयुर्वेदनामा में हम चित्रक के बारे में जानकारी हासिल करेंगे जो मुख्य रूप से पहाड़ी स्थानों व जगलों में पाया जाने...

कैरियर लैब: जनसहयोग से ले रही है आकार, ग्रामीण परिवेश के बच्चें भरेंगे उड़ान !

आपने लैब के बारे में तो अवश्य ही सुना होगा। अस्पतालों में भी जांच करने के लिए लैब या लैबोरेटरी होती हैं।...

ऋचा और फ़ाएज़: कॉफ़ी ही नहीं पिलाते, युवाओं को मंच भी प्रदान करते हैं

यह कहानी है जोधपुर में रहने वाली महिला उद्यमी ऋचा शर्मा की, जिन्हें बचपन से किताबों से लगाव था। बातचीत के दौरान...